Apke Lekh

Mr. Sanjay Vishwakarma
Mr. Sanjay Vishwakarma mailbox4sanjay@gmail.com 9029495966
Subject : हिम्मत करने वालों की कभी हार नही होती ...

लेहरों से डरकर नौका पार नहीं होती...
हिम्मत करने वालों की कभी हार नही होती...

नन्ही चींटीं जब दाना लेकर चढती है...
चढती दीवारों पर सो बार फ़िसलती है...
मनका विश्वास र...

Mr. Sanjay Vishwakarma
Mr. Sanjay Vishwakarma mailbox4sanjay@gmail.com 9029495966
Subject : असमन्जस ...

सीधा साधा रास्ता भी मुझको,
अब लगता चौराहा सा,
जाने किस धुन मे भाग रहा,
है हर इन्सा बौराया सा.

पैसा पैसा करता रह्ता,
है वो अमीर इतराया सा,
जैसे तैसे जीवन...

Mr. Sanjay Vishwakarma
Mr. Sanjay Vishwakarma mailbox4sanjay@gmail.com 9029495966
Subject : क्या लिखूँ ... ?

कुछ जीत लिखूँ या हार लिखूँ...
या दिल का सारा प्यार लिखूँ...
कुछ अपनो के ज़ाज़बात लिखूँ या सापनो की सौगात लिखूँ...
मै खिलता सुरज आज लिखूँ या चेहरा चाँद गुलाब लिखूँ...
वो ...

Mr Amarjeet Thakur
Mr Amarjeet Thakur amarjeet_thakur2001@yahoo.com 9990529741
Subject : भक्ति महत्ता

आज संसार में भक्ति तो हर कोई कर रहा है मगर महत्ता तो उस भक्ति की होती है जिसे परमात्मा परवान करता है. अगर केवल नाम रटन की धुन को हीं भक्ति कहेंगे तो सड़क की किनारे बैठ कर भीख मांग रहा भिखारी भी हमसे...

Mr. Sanjay Vishwakarma
Mr. Sanjay Vishwakarma mailbox4sanjay@gmail.com 9029495966
Subject : मेरी माँ

'माँ' जिसकी कोई परिभाषा नहीं,
जिसकी कोई सीमा नहीं,
जो मेरे लिए भगवान से भी बढ़कर है,
जो मेरे दुख से दुखी हो जाती है,
और मेरी खुशी को अपना सबसे बड़ा सुख समझती है,
...

Mr Divyendu Vishwakarma
Mr Divyendu Vishwakarma divyendu.17@gmail.com 09425343807
Subject : माँ शब्द

माँ शब्द मे दुनिया का सबसे बड़ा रहस्य छुपा है,
इसको नही समझ सकोगे इसमें भगवान छुपा है ।।
माँ-बाप को न भूलना गलती से भी तुम,
एक बार भूल जाओ चाहे दुनिया को तुम ।।
माँ का ...

Mr. Shyam Vishwakarma
Mr. Shyam Vishwakarma vishwakarma.sv@gmail.com N
Subject : चूल्हे की आग ...

क्या वो बचपन के दिन थे
जब हम अपने घर के बहार खेला करते थे...
और शाम होते ही अडोस पड़ोस
की औरतें एक दुसरे के घर से
आग मांग कर अपने घर की
चूल्हा जलाया करती थी.....

Mr. Shyam Vishwakarma
Mr. Shyam Vishwakarma vishwakarma.sv@gmail.com N
Subject : इन्सान एक सामाजिक प्राणी है

इन्सान एक सामाजिक प्राणी है.........
समाज के बिना उसका रहना कठिन है...........
माता-पिता, भाई-बहन, आस-पड़ोस के लोगों को मिलाकर ही समाज की रचना होती है............
समाज के बिना...

Mr Acharya Vishwabrahma
Mr Acharya Vishwabrahma acharya.vishwabrahma9@gmail.com 08093657894
Subject : विश्वकर्मा एवं विश्वब्रह्मन

विश्वकर्मा एवं विश्वब्रह्मन पंडित विद्वानोंको, वैदिक पंडितोको,आचार्योंको, सास्थ्रियोंको, शर्मओंको, और सभी ग्नानीयोंको, विग्ननियोंको एवं सभी सज्जनोंको मेरा सादर प्रणाम

दुनिया के विश्वकर्मा...

Mr. Shyam Vishwakarma
Mr. Shyam Vishwakarma vishwakarma.sv@gmail.com N
Subject : बात हम अंधेपन की कर रहे हैं ........

" महाभारत " के ध्रितराष्ट्र को कौन नहीं जानता ,
उसके अंधेपन को कौन नहीं जानता !
हम सभी ने महाभारत को कई बार पढ़ा है
उसकी कहानी को कईयों बार सुना है ,
साथ म...

Ads