News Details

योग्यता व संस्कार को सलाम

योग्यता व संस्कार को सलाम आज के समय में छोटी-छोटी बातों को लेकर लोग शादी जैसे पवित्र संबंध को तोड़ देते हैं और विपरीत परिस्थितियों में स्वीकारना तो लगभग असंभव ही है। उ0प्र0 के अमेठी जिले के भगत का पुरवा-शर्मे (जामो बाजार) के नागेन्द्र विश्वकर्मा पुत्र ज्ञानदत्त विश्वकर्मा व सुल्तानपुर जिले के तिवारीपुर गांव की सुधा विश्वकर्मा पुत्री सियराम विश्वकर्मा की शादी 2 दिसम्बर 2015 को होना सुनिश्चित हुई थी, जिसमें शादी की सुबह यानी 2 दिसम्बर को ही नागेन्द्र की तबीयत अचानक खराब होती है। जिसे अस्पताल में एडमिट करना पड़ता है। प्राथमिक चिकित्सा के नाम पर आर्थो के डॉक्टर के द्वारा पैसा बनाने के उद्देश्य से नागेन्द्र का डायलसिस करना कितना घातक हुआ कि वह एक नहीं दो-दो परिवारों के सामाजिक स्तर को नेस्तनाबूत कर दिया और रही सही कसर दूसरे नर्सिंग होम के डाक्टर ने पूरी कर दी।

Ads