Apke Lekh Details

To post comments on this Lekh you need to be logged in.

Mr Ram Awadh Vishwakarma
Mr Ram Awadh Vishwakarma bsnlgwl@gmail.com 09479328400
Subject : गीत - फीके रंग हुये जीवन के

फीके रंग हुये जीवन के भूले सब सुर ताल । कितना बुरा जमाना आया जीना हुआ मुहाल ।

चार गुनी कीमत में बिकती घुइंया और तुरइया । एक चवन्नी से भी कम अब गिरकर हुआ रुपइया ।
आसमान में जा पहुँची है बड़े ठाठ से दाल । कितना बुरा जमाना आया जीना हुआ मुहाल ।

किस मुँह से हम तुम्हें बतायें कहते आती लाज । अपनी पहुँच से बाहर हो गर्इ रोटी और प्याज ।
घर आया मेहमान भी अब तो लगता है जंजाल । कितना बुरा जमाना आया जीना हुआ मुहाल ।

सोच रहे थे बच्चों को दिलवाते अच्छी षिक्षा । पढ़ लिखकर अधिकारी बनते मन में थी ये इच्छा ।
मंहगी षिक्षा देख के अपने उड़ गये सिर के बाल । कितना बुरा जमाना आया जीना हुआ मुहाल ।

बीमारी में कहे डाक्टर खाना है फल फ्रूट । उसकी सब बातें सुनते हैं पी कर खून के घूँट ।
देख दवा का पर्चा आँसू से भीगे रुमाल । कितना बुरा जमाना आया जीना हुआ मुहाल ।

बेटी हुर्इ सयानी उसकी करनी है शादी । बर्षां से बीमार चल रहे दादा और दादी ।
ऊपर से हम झेल रहे हैं सालों साल अकाल । कितना बुरा जमाना आया जीना हुआ मुहाल ।

फटे बिछौने पर सोते हैं कक्का और दद्दा । कहाँ लिखा है फोम का उनकी किस्मत में गद्दा ।
हाड़ तोड़ मेहनत करके भी अब तक हैं कंगाल । कितना बुरा जमाना आया जीना हुआ मुहाल ।

Comments

Sanjay Vishwakarma

nice

4/10/2016 4:51:46 AM

Nandlal Vishwakarma

very nice

5/18/2014 10:31:47 PM

vijai sharma

good thinking for socialization ...

3/18/2014 8:43:43 AM

Manoj Vishwakarma

Good lines

3/6/2014 2:05:04 AM

Uttam Jangid

Very nice "Geet"

3/4/2014 5:05:38 AM

Anil Vishwakarma

Very nice "Geet"

3/3/2014 6:57:22 AM

Post Comments
User Pic

Ads