Apke Lekh Details

To post comments on this Lekh you need to be logged in.

Mr Ram Awadh Vishwakarma
Mr Ram Awadh Vishwakarma bsnlgwl@gmail.com 09479328400
Subject : गजल

केवल कुछ प्रतिषत ही नमक हलाल मिले,
बाकी जितने मिले वो सिर्फ दलाल मिले।

जब-जब फँसीं मछलियाँ नदियों की तब तब,
आँखों में आँसू भरकर घडि़याल मिले।

गीत प्रगति के हम भी जी भरकर गायें,
खाने को भर पेट जो रोटी दाल मिले।

वही ष्षहर के आज प्रमुख विक्रेता हैं,
छापे में जिनके घर नकली माल मिले।

जितने पैसे में हम अपना तन ढकते,
उनसे भी मँहगे उनके रूमाल मिले।

Comments

Rajeevranjan Thakur

Good lines

2/8/2014 11:17:32 AM

Nandlal Vishwakarma

Nice...

2/5/2014 10:18:11 AM

Mohan Vishwakarma

Really good lines

2/4/2014 10:04:13 AM

Manoj Vishwakarma

Pretty good lines...

1/30/2014 10:13:08 PM

Ram Awadh Vishwakarma

sir, so many thanks to you for nice comments

1/29/2014 9:51:58 PM

Anil Vishwakarma

Waah... Waah... Waah...

1/29/2014 3:58:00 AM

Post Comments
User Pic

Ads