Public Profile Details

Social Worker : Chandan Vishwakarma - chandan.nica@gmail.com

Chandan Vishwakarma सामाजिक और राजनितिक व्यक्तित्व के धनी और मूलतः वाराणसी जिला के निवासी श्री चन्दन श्रीराम विश्वकर्मा जी का जन्म 10 अप्रैल 1974 उत्तर प्रदेश के वाराणसी जिले, गाँव घौसाबाद लच्छीपुरा में हुआ है। इनके पिता श्रीराम विश्वकर्मा जी एक शिक्षक हैं और उनके शिक्षित वातावरण में इनका जीवन पला बढ़ा हैं। मनोविज्ञान और सामाजिक विज्ञान से शिक्षा प्राप्त कर ये स्नातक हुए हैं। समाजसेवा इन्हे इनके दादाजी और पिताजी से विरासत में मिली है। बहुत ही कम उम्र से ये अपने पिता जी के साथ सामाजिक कार्यक्रमों आते जाते थे या यूँ कहिये शायद इनके पिताजी ने इनके दादाजी के समाजसेवा भाव को आगे बढ़ाने के लिए इन्हे शुरू से ही सामाजिक विषयों से अवगत करना शुरू कर दिया था। वाराणसी में ये स्वयं का व्यवसाय करते हैं और अपने धर्मपत्नी तथा एक पुत्र के साथ छोटी सी दुनिया में रहते हुए अपने पारिवारिक ज़िमेदारीयो के साथ समाज के लिए सदैव तत्पर रहते हैं।

सभी के जीवन में उतार चढ़ाव में लगा ही रहता है, लेकिन अगर कोई उस उतार चढ़ाव के हिसाब से अपने आप को ढाल ले तो, उस व्यक्ति को सफलता की बुलन्दियों को छूने में समय नहीं लगता। ऐसी ही जिंदगी कुछ इनके पिता जी और इनकी थी। इनके पिता जी जिस विद्यालय में पढ़ते थे, उसी विद्यालय के "साइकिल का स्टैंड" को चला कर उन्होंने अपनी पढ़ाई पूरी की और उसी विद्यालय में वे एक सम्मान जनक अध्यापक होकर अपना और अपने परिवार का नाम रौशन किया। इनके पिता जी की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं होने के बावजूद भी उन्होंने अपने सामाजिक कर्तव्य को पूरी निष्ठा और ईमानदारी से निभाया। समाज के प्रति यह समर्पण भाव को देख श्री चन्दन विश्वकर्मा काफी प्रेरित हुए और उन्हें ये एहसास हुआ कि अगर सही दिशा में समाज कार्य किया जाए तो सब कुछ सम्भव है। पिता जी के समाजसेवा भाव को इन्होने अपनी समाजसेवा से आगे बढ़ाया और समय के साथ साथ अपना सामाजिक दायरा खूब बुलंद किया। अपने पिता जी को आदर्श और गुरु मानकर आज ये सफलता की बुलंदियों पर खड़े हैं और उन्ही की प्रेरणा के फलस्वरूप चन्दन विश्वकर्मा समाज में किसी के नाम का मोहताज नहीं है। इनके जन्मभूमि और आसपास के राज्यों में ये काफी पकड़ रखते हैं और सदैव तत्पर रहते हैं। समाज सेवा के लिए एक फ़ोन कॉल पर उपस्थित रहते हैं और उसे संपन्न करने में कोई कसर नहीं छोड़ते हैं।

विगत कुछ वर्षों से राजनीती में इनका प्रदार्पण हुआ है और तब से लेकर आज तक इन्होने समाज के हर पहलू को राजनितिक नजरिये से बड़ी मज़बूती से रखा है। इनका मानना है कि समाज को आधुनिक बनाने के लिए राजीनीति में भागीदारी आवश्यक है और इसी के फलस्वरूप आने वाले समय में ये अपनी उपस्थिति एक सफल राजनेता के रूप में दर्शाएंगे, जिससे समाज का भला हो सके और सामाजिक होने के कर्त्तव्य निभाया जा सके।

वर्तमान समय में ये भारतीय समाज पार्टी में प्रदेश महासचिव, विश्वकर्मा विकास सुरक्षा समिति रजि में प्रदेश महासचिव, अखिल भारतीय पिछड़ा वर्ग में जिला अध्यक्ष, वाराणसी फोटोग्राफर एशोसिएशन में कोषाध्यक्ष, महानगर उधोग व्यपार मंडल वाराणसी में उड़ाका दल का सदस्य, कौसल विकास में जिला अध्यक्ष तथा विश्वकर्मा सभा चौकाघाट में सदस्य के रूप में उपरोक्त सभी पदों पर कार्यरत हैं।